शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा रचना “अपना प्यारा चमन धनबाद दोस्तों"

अपना प्यारा चमन धनबाद दोस्तों 

    अपना प्यारा चमन धनबाद दोस्तों 
                     ये तो झारखंड की है शान दोस्तों 
     यहां कण कण में बसता प्यार दोस्तों 
.                        नहीँ यहां कोई भेद भाव दोस्तों 
     मंदिर मस्जिद गुरुद्वारों की भरमार दोस्तों 
                     हिंदू मुसलमान की ये शान दोस्तों 
    यहां आपस में प्यार बेमिसाल दोस्तों 
                           अपना तो यहीं जहान दोस्तों 
   काले हीरे की यहां पर है खान दोस्तों 
                      हर चेहरे पर यहां मुस्कान दोस्तों 
   हर हाथ कॊ यहां पर है काम दोस्तों 
                    बेंकमोड़ की मशहूर है शाम  दोस्तों 
  जुहू चौपाटी सा वहां का नजारा दोस्तों 
          कंबाइंडबिल्डिंग में गोविन्दा की चाय दोस्तों 
  प्यार बसता है यहां पर प्यार दोस्तों 
                        मेरा प्यारा चमन धनबाद  दोस्तों 
   ये तो शाने है हिंदुस्तान   दोस्तों 
                      ईद दशहरा दिवाली मशहूर  दोस्तों 
  शक्ति मंदिर यहां का है तीर्थ दोस्तों 
                         यहां भक्तों की सदा भीड़ दोस्तों 
   यहां का स्टेशन भी बहुत ही खूब दोस्तों 
                           दिन रात रहता गुलजार  दोस्तों 
   " लक्ष्य" अपना तो यहीं अभिमान दोस्तों 
                         पुरा बसता यहां हिंदुस्तान दोस्तों 
      अपना प्यारा चमन हिंदुस्तान दोस्तों 

                     स्वरचित   निर्दोष लक्ष्य जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें