सोमवार, 12 अक्तूबर 2020

कवि बाबूराम सिंह जी द्वारा रचना “अबला नहीं मै सबला हूँ"

अबला नहीं मै सबला हूँ
*************************

विधी की अदभुत कृति कला हूँ ।
अबला   नहीं    मै    सबला   हूँ ।

सृष्टि  की  सुचि  आधार  हूँ   मै ।
सुख- शान्ति  गुरु  व्दार   हूँ  मै ।
ममता  , प्यार  , दुलार   हूँ    मै ।
बच्चों   की  पालन  हार  हूँ   मै ।

तिल- तिल  आदि   से  गला  हूँ ।
अबला   नहीं   मै   सबला    हूँ ।।

कहीं   फूल  कहीं  खार  हूँ   मै ।
दुष्टों   के  लिए  ललकार  हूँ  मै ।
दहकत   शोले   अंगार   हूँ    मै ।
दुर्गा    चंण्डी   अवतार   हूँ   मै ।

युग  -युग  में  दुष्टों  को  दला  हूँ ।
अबला   नहीं   मै   सबला    हूँ ।।

शर्मो    हया    श्रृंगार    हूँ     मै ।
आदर   में   फूल - हार   हूँ   मै ।
गृहस्ती   की   पतवार   हूँ     मै ।
सोचो    पुरा    संसार   हूँ     मै ।

हरगिज  दूखों  से  नहीं  टला हूँ ।
अबला   नहीं    मै    सबला   हूँ ।

उत्तम   से  उत्तम   दान  हूँ   मै ।
दो - दो  कुलों  की  शान  हूँ  मै ।
हर   घर   की   मुस्कान   हूँ  मै ।
इस  सृष्टि  की  अगुआन  हूँ  मै ।

समयोचित  सच  बुरा- भला  हूँ ।
अबला   नहीं    मै    सबला   हूँ ।

*************************
बाबूराम सिंह कवि
बड़का खुटहाँ , विजयीपुर 
गोपालगंज(बिहार)८४१५०८

*************************

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें