गुरुवार, 8 अक्तूबर 2020

कवि गौरव मिश्र तन्हा जी द्वारा रचना

आपकी सेवा में एक कुंडलियां छंद 
     जय सिया राम

शीतल पुरवाई चले, इस तन को सुख देत।
सियाराम का नाम ही, पीड़ा सब हर लेत।।
पीड़ा सब हर लेत, मोह से पार लगावै।
छूटे जग से बंधन, न इस जग में दुख पावै।।
इस जग से उस लोक, की सीढ़ी है बस राम।
सत करमों से यहां, मिलत है राम का धाम।।
गौरव मिश्र तन्हा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें