रविवार, 17 जनवरी 2021

दीपा पन्त 'शीतल' जी द्वारा अद्वितीय रचना#नया साल नए संकल्प#

राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय 'बदलाव मंच'

 साप्ताहिक काव्य/ काव्य गद्य प्रतियोगिता।

 दिनांक 29 दिसंबर 2020 से 5 जनवरी 2021

 विषय- नया साल नए संकल्प 2021
 विधा -कविता

साल विदा हो रहा
 नववर्ष आ रहा,
 नव विहग ज्यों चहचहाये
 मन प्रमुदित गा रहा ।

बीसवें इस वर्ष ने देखे
 बहुत से  पड़ाव ,
महामारी का यह दौर
 त्राहि-त्राहि चारों ओर।

 नव वर्ष नव है आस
 नव कदम नव प्रयास,
 जा रहे को अलविदा कहता
 नवप्रभात आ रहा ।
                साल विदा हो रहा.....

अपने सभी जुड़ते रहें
 साथ मिल बढ़ते चले,
 स्वप्नदीप करें उजाला
 रवि उदित होने वाला ।

बीता है जो उसे भुलाना
 आ रहे को है सजाना,
 यह संदेश देता हुआ
 नव प्रकाश छा रहा।

 साल विदा हो रहा 
नव वर्ष आ रहा...

दीपा पन्त 'शीतल'
 उदयपुर राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें