गुरुवार, 8 अप्रैल 2021

गीतापाण्डेय अपराजिता जी द्वारा#कुंडलियाँ#

कुंडलियाँ
शीर्षक होली
1  आज मचा हुडदंग है ,गांव गली सब ओर।
 डगर डगर में हो रहा, जनमानस का शोर।।
  जन मानस का शोर ,उछलते  कूदे सारे।
रंगों से सराबोर , नाचते सब हुलियारे।
है उजास की भोर, बजते सतरंगी साज।
 प्रीत प्यार का जोर, मना रहे होली आज।

2 होली के त्योहार में, खुशियां छाई अपार।
श्याम रंग राधा रंगी, मस्त मगन संसार।।
मस्त मगन संसार , बोलते सुंदर बोली।
 बांधे मन का तार, प्रीत भरते हमजोली।।
 मन में भर उल्लास, रही बच्चों की टोली।
  फागुन उत्सव मास, खेल रहे खूब  होली।।


गीतापाण्डेयअपराजिता रायबरेली उत्तर प्रदेश

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें